वैसे तो आज कल के जमाने में लगभग सभी लोगों के पास कोई न कोई गाड़ी अवश्य मौजूद रहती है, लेकिन इनमें से कई लोगों को गाड़ी के लिए कौन-कौन से दस्तावेज की जरूरत होती है, यह पूरा पता नहीं रहता है। ऐसी स्थिति में कई बार उन्हें दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

आइए आज हम आपको बताएं कि गाड़ी के लिए कौन-कौन से कागजों की जरूरत होती है!

ड्राइविंग लाइसेंस सर्टिफिकेट
हर व्यक्ति के पास गाड़ी चलाने के लिए सबसे पहले ड्राइविंग लाइसेंस सर्टिफिकेट का होना बेहद जरूरी है। बिना लाइसेंस के गाड़ी चलाना एक अपराध है और ड्राइविंग लाइसेंस न होने के कारण ट्रैफिक पुलिस के द्वारा पकड़े जाने पर आपकी गाड़ी का चालान कट सकता है। ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए व्यक्ति को कम से कम 18 साल से ऊपर होना चाहिए तभी आपका ड्राइविंग लाइसेंस बन सकता है।

ध्यान रखें, अगर आप किसी को अपनी गाड़ी चलाने के लिए भी दे रहे हैं तो इस बात के प्रति आश्वस्त हो लें कि उसके पास वैलिड ड्राइविंग लाइसेंस मौजूद है।

Pic: hindustantimes

गाड़ी का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट
अगर आप किसी भी तरह की गाड़ी खरीद रहे हैं तो गाड़ी को खरीदने के बाद ही उसका रजिस्ट्रेशन होता है। हालाँकि रजिस्ट्रेशन होने में दो तीन दिन का समय भी लग सकता है, लेकिन ऐसी स्थिति में आपको एक अस्थायी नंबर मिलता है जिसकी वैधता का समय लगभग एक हफ्ते (कई राज्यों में एक हफ्ते) की होती है। एक हफ्ते के अंदर ही आपको गाड़ी का रजिस्ट्रेशन करवाना चाहिए और साथ ही गाड़ी के स्थायी नंबर को लेना चाहिए। किसी भी प्रकार की गाड़ी का रजिस्ट्रेशन होना अनिवार्य है, अन्यथा आपके ऊपर क्रिमिनल होने का शक हो सकता है।

Pic: tulsaworld

गाड़ी का इंश्योरेंस करवाना
गाड़ी खरीदने के बाद आपकी गाड़ी का इंश्योरेंस यानि कि बीमा करवाना बेहद जरूरी है। इससे आपको भी फायदा होता है। हालाँकि कई लोग इंश्योरेंस नहीं करवाते हैं, उनका मानना होता है कि उन्हें इंश्योरेंस की आवश्यकता नहीं है जो कि पूरी तरह गलत धारणा है। इंश्योरेंस नहीं होने पर आपका चालान कट सकता है, लेकिन सबसे बड़ी बात यह है कि इंश्योरेंस न होने पर एक्सीडेंट होने की स्थिति में आपको भारी नुक्सान सहना पड़ता है। सामान्यतः बीमा की अवधि एक साल की होती है और 1 साल की अवधि समाप्त हो जाने पर आपको तुरंत इसको रिन्यू करवाना चाहिए ।

गाड़ी का प्रदूषण सर्टिफिकेट
क्या आपको यह पता है कि आपके गाड़ी के लिए प्रदूषण सर्टिफिकेट कितना जरूरी है? जी हां! प्रदूषण सर्टिफिकेट बेहद अनिवार्य कागज है। यह कागज़ कई पेट्रोल पंप के पास बने प्रदूषण जांच केन्द्र में बनता है। वहां जाकर आप अपनी गाड़ी का प्रदूषण लेवल चेक कराकर सर्टिफिकेट बनवा सकते हैं। इसके न होने पर आपका चालान काटा जा सकता है और प्रदूषण फैलाकर आप पर्यावरण के प्रति भारी अपराध करते हैं।

Pic: samacharnama

दिल्ली में प्रदूषण सर्टिफिकेट की अवधि तीन महीने तक होती है, लेकिन यूपी में इसकी वैधता 6 महीने तक होती है। चूंकि, हर राज्य में अलग -अलग वैधता होती है। आपको प्रदूषण सर्टिफिकेट बनवाने के लिए 100 रूपये से भी कम खर्च करने पड़ते हैं और आपका सर्टिफिकेट तैयार हो जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here