ऑटो इंडस्ट्री में एक से बढ़कर एक इनोवेशंस हुए हैं और यह क्रम लगातार जारी है। वर्तमान समय में एक से बढ़कर एक कारें मार्केट में आयी हैं, जिन्हें देखकर भारी आश्चर्य होता है। पर आश्चर्य करने की सीमा यहां समाप्त नहीं होती है, बल्कि यहां से तो कहानी शुरू होती है।

जी हां! अब जमाना ड्राइवरलेस कार्स का है, कई कंपनियां फ्यूचर कॉन्सेप्ट कार्स पर काम कर रही हैं और ड्राइवरलेस कार्स के बारे में तो टेस्टिंग भी हो चुकी है।

ऐसी कारों में ना तो स्टेयरिंग व्हील होता है और ना ही किसी ड्राइवर की आवश्यकता होती है, बल्कि यह नेविगेशन सिस्टम द्वारा कंट्रोल्ड होती हैं। ऐसा भी नहीं है कि इन कारों में सुरक्षा के पर्याप्त उपाय न हों, बल्कि इनमें रडार व लिडार, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, स्टीरियोस्कोपिक कैमरे, मशीन लर्निंग एल्गोरिथ्म और ऐसी ही कई आधुनिक टेक्नालॉजी प्रयोग की गई हैं, जिससे आपकी यह कार ना केवल बेहतरीन ड्राइविंग एक्सपीरियंस देती है, बल्कि पूरी तरह से सुरक्षित भी है।

Pic: headsup

आप सोच रहे होंगे कि यह ट्रैफिक जाम, पोलूशन या फिर एक्सीडेंट इत्यादि को किस प्रकार मैनेज करेगी तो आप इसकी चिंता छोड़ दीजिए, क्योंकि एक नहीं कई सारी कंपनियां इन तमाम समस्याओं पर काम कर रही हैं और फुलप्रूफ सलूशन भी निकाल रही हैं। कुछ कॉन्सेप्ट कारों की बात करें तो इनमें ‘बीएमडब्ल्यू विजन नेक्स्ट 100’(BMW Next 100) का नाम आता है।

यह कार विभिन्न ऑटोमोबाइल शोज में प्रदर्शित हो चुकी है और भविष्य में इसे मार्केट में लांच किया जा सकता है। इसकी डिजिटल इंटेलिजेंस, भीड़ हो या फिर कोई दुर्घटना की स्थिति हो, इसमें पूरी तरह से सक्षम मानी जाती है। इसी प्रकार एक अन्य कार ‘ताइहू 2046’(Taihoo 2046) भी कॉन्सेप्ट कार है जिसमें सोलर सेल का प्रयोग किया गया है। एक बार यह पूरी तरह से चार्ज हो जाने के पश्चात 500 किलोमीटर के आसपास का सफर तय कर सकती है। बात चाहे इंटीरियर की हो या फिर स्पीड की… यह कार पूरी तरह से लोगों की अपेक्षाओं पर खरी उतर सकती है।

Pic: mbusa

‘मर्सिडीज-बेंज कांसेप्ट ईक्यू’ (Mercedes-Benz Concept EQ) इलेक्ट्रिक कार्स के मैदान में पूरे दमखम से उतर रही है। बताया जाता है कि यह कार 5 सेकेंड के अंदर ही 100 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड से दौड़ जाती है। इतना ही नहीं, इसको फुल चार्ज करने में 50 मिनट के आसपास का समय लग सकता है।

इस कार्य में नेविगेशन का सिस्टम बेहद उम्दा बताया गया है। ऐसा नहीं है कि इस कार की मार्केट में सिर्फ मर्सिडीज-बेंज ही है बल्कि ‘रोल्स-रॉयस 103 ईएक्स’ (103EX , Rolls Royce) भी अपनी इलेक्ट्रिक कार को मार्केट में लांच करने के लिए पूरी तरह से तैयार है।

इस कड़ी में मित्सुबिसी, टोयोटा इत्यादि कई कंपनियां काम कर रही हैं।

Pic: auto

एक आंकलन के अनुसार 2050 तक पूरे विश्व में ड्राइवरलेस फोर व्हीलर का मार्केट 700000 करोड़ से अधिक का होने की उम्मीद है। सच ही तो है, मशीनें इंसानों का कार्य हर जगह करने लगी हैं, तो अब ड्राइवर का कार्य भला क्यों नहीं कर सकती हैं?

आप इस इनोवेशन के बारे में क्या कहेंगे कमेंट बॉक्स में बताएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here