आपने अक्सर देखा होगा कि नए -नए खरीदे गए वाहनों के नंबर प्लेटों पर ए / एफ लिखा होता है। कई लोग इसका मतलब नहीं समझ पाते हैं। इसका मतलब होता है ‘एप्लाइड फॉर’ यानी कि गाड़ी के मालिक ने नए नंबर के लिए आवेदन किया है और जब तक गाड़ी को स्थायी नंबर नहीं मिल जाता है तब तक उनके गाड़ी के नम्बर प्लेट पर A/F या (Applied for) लिखने की छूट दी जाती है।

मोटर वाहन अधिनियम 1989 के अनुसार प्रत्येक वाहन का पंजीकृत होना अनिवार्य कर दिया गया। जब आप शोरूम से गाड़ी खरीदते हैं तब आपके वाहन के लिए एक अस्थायी नंबर मिलता है जिसके द्वारा आप अपने वाहन को एक निश्चित समय तक ही रोड पर चला सकते हैं।

Pic: motor1

इसके बाद आपको स्थायी नंबर के साथ ही रोड पर उतरने की परमिशन है। वहीं यदि किसी गाड़ी को टेम्पररी नम्बर नहीं दिया गया है तो उसके नम्बर प्लेट पर ए / एफ लिख दिया जाता है। गाड़ी में ए / एफ नंबर प्लेट लगा होने पर आप इसे एक हफ्ते से ज्यादा ड्राइव नहीं कर सकते हैं, क्योंकि ऐसा करना क़ानून के खिलाफ होगा तथा इसका उल्लंघन करने पर आपको भारी फाइन देना पड़ सकता है।

आपकी गाड़ी नई हो या पुरानी सभी प्रकार के वाहन को मोटर वाहन अधिनियम के द्वारा पंजीकृत होना बहुत ही आवश्यक है ।

कई बार यह देखा जाता है कि बहुत सारे लोग बिना स्थायी नंबर वाला वाहन लम्बे समय तक चला रहे होते हैं, यह एक अपराध है। A/F लिखवाकर गाड़ी चलाना भी कानून के अन्तर्गत आता है लेकिन इसकी एक समय सीमा तय की गयी है। जैसे आप को शुरुआत में बताया गया था कि ए / एफ नंबर आप एक हफ्ते से ज्यादा नहीं चला सकते हैं।

Pic: amitkumarsachin

RTO से आप क्या समझतें हैं?

1988 के ‘मोटर वाहन अधिनियम’ के नियमों के अनुसार, भारत में एक वाहन को एक वैध पंजीकरण प्रमाणपत्र के बिना उपयोग नहीं किया जा सकता है। भारत में मोटराइज्ड वाहनों को उस राज्य और इलाके के आधार पर पंजीकरण नंबर दिया जाता है। वाहन पंजीकरण संख्या संबंधित राज्य में क्षेत्रीय परिवहन कार्यालयों (RTO) द्वारा जारी की जाती है। सभी वाहन अपने वाहनों के आगे और पीछे वाहन नंबर प्लेट लगाने के लिए बाध्य हैं।

RTO मतलब क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय अधिकारी ने आपको A/F नंबर प्लेट की सुविधा सिर्फ उस समय तक के लिए दी है जब तब कि आपको स्थायी नंबर नही मिल जाता है और जब आप को स्थायी नंबर मिलता है आपको अपनी गाड़ी पर A/F की जगह स्थायी नंबर प्लेट लगाना जरूरी होगा।

ये भी जान ले अगर आप बिना स्थायी नंबर या ए / एफ की गाड़ी चलाते पकडे गए तो आपको 10000 रुपये का जुर्माना हो सकता है या आपकी गाड़ी ट्रैफिक पुलिस भी ले जा सकती है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here