दुनिया का सबसे पहला ट्रैफिक लाईट लन्दन के ब्रिटिश हाउस ऑफ पार्लियामेंट के ठीक सामने 10-12-1868 में रेलवे के अभियंता जे के नाईट ने लगवाया था। उन्होंने इसमें एक गैस का इस्लेमाल किया था ताकि रात के समय आसानी से दिखाई दे सके।

उस दौरान यह लाल और हरा सिर्फ दो कलर के थे। उस समय से लेकर आज तक पूरी दुनिया भर की सड़कों पर अब इन लाइटों का इस्तेमाल किया जाता है।

ट्रैफिक रूल्स में मुख्यतः तीन रंगों का प्रयोग किया जाता है। इन तीन रंगों का प्रयोग ट्रैफिक नियंत्रण सिग्‍नल के रूप में किया जाता है। इनका प्रयोग सड़कों के चौराहों, पथयात्री क्रॉसिंग तथा यातायात की भीड़ को नियंत्रण करने में इस्तेमाल किया जाता है।

ट्रैफिक सिग्‍नल में लाल लाइट जलने का मतलब रुकिये, पीली लाईट के आने पर तैयार हो जाइये तथा हरे रंग का मतलब आगे बढें। इतना तो सभी लोग जानते हैं, लेकिन इन रंगों का मतलब इनसे भी बढ़कर होता है।

क्या आपने कभी सिग्‍नल में तीन कलर्स के बारे में जानने की कोशिश की है कि तीनों रंगों के पीछे क्या वजह है? खैर कोई बात नही है, आज हम आपको बताएंगे कि आखिर इन तीन रंगों का इस्तेमाल क्यों होता है…

लाल रंग का महत्त्व

सबसे पहले हम आपको लाल रंग के बारे में बताते हैं कि ट्रैफिक सिग्‍नल में लाल रंग का महत्व कितना खास होता है। लाल रंग अन्य रंगों से अधिक गाढ़ा तथा इसकी गति बहुत ही तेज होती है। अन्य रंगों के मुकाबले यह हमारी आंखों के रेटिना पर जल्दी प्रभाव पड़ने के साथ ही, यह लाल रंग दूर से ही हमें दिखाई देने में सक्षम होता है।

सिग्‍नल में लाल रंग का इस्तेमाल वाहनों को रोकने के अलावा आगे खतरा है का भी प्रतीक माना जाता है। लाल रंग को रक्‍त और हिंसा का घोतक मानते हुए ट्र्रैफिक सिग्‍नल में इसका इस्तेमाल यातायात को रोकने के लिए किया जाता है, ताकि दुर्घटना के शिकार होने से बचा जा सके।

भारतीय रेलवे में भी इन्ही रंगों की लाइटों का इस्तेमाल किया जाता है। अक्सर आपने देखा होगा कि रेलगाड़ी को भी रोकने के लिए लालबत्ती का उपयोग किया जाता है।

Pic: time

पीले रंग का महत्त्व

पीला रंग सूर्य व ऊर्जा का अंग माना जाता है। यह रंग निर्देश देता है कि आप अपनी ऊर्जा को एकत्रित करके तैयार हो जाओ। इस रंग को बेहद शुभ माना जाता है तथा हर शुभ कार्य में इसका इस्तेमाल किया जाता है। ट्रैफिक सिग्‍नल में पीले रंग का जलना मतलब आप को यह संकेत दर्शाता है कि आप अपने वाहन के इंजन को स्‍टार्ट कीजिए।

Pic: mlive

हरे रंग का महत्त्व

हरे रंग को शांति और प्रकृति का प्रतीक माना जाता है । हालाँकि जब हम हरे रंग को देखते हैं तो हमारे आंखों में एक सकून का अहसास मिलता है। जिस तरह लाल रंग का इस्तेमाल वाहनों को स्टॉप के रूप में किया जाता है उसी प्रकार हरे रंग का इस्तेमाल वाहनों को आगे बढ़ने के लिए किया जाता है। यह एक दूसरे से बिलकुल ही विपरीत होते हैं।

Pic: daily.jstor

इसलिए इन तीन तरह के रंगों का अलग-अलग गुण एवं क्षमता के अनुसार उपयोग किया जाता है। आप जब सड़क पर वाहन चलाते हैं तो उस समय ध्यान रहे कि कब किस रंग की ट्रैफिक लाइट जल रही है। इससे सभी दुर्घटना से बच सकेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here